Thirteen districts

Ethanol production
April 24, 2019
The Digital North East Vision 2022
April 25, 2019

Thirteen districts

उत्तर कर्नाटक के तेरह जिलों ने हाल ही में एक अलग राज्य के लिए नए सिरे से आवाज़ उठाई है. कृष्णा नदी क्षेत्र के लोगों ने यह तर्क दिया है कि नदी और उससे संबंधित परियोजनाओं पर कभी उतना ध्यान नहीं दिया जाता जितना दक्षिण कर्नाटक में कावेरी पर दिया जाता है.

Thirteen districts of North Karnataka have recently raised a new voice for a separate state. People in the Krishna river region have argued that the river and its related projects are never given as much attention as the Cauvery in South Karnataka is given.

एक संपूर्ण अध्ययन के बाद डी. एम. नन्जुन्दप्पा समिति ने 2003 में अपनी रिपोर्ट में 39 तालुकों को "सबसे पिछड़े" के रूप में सूचीबद्ध किया, जिनमें से 26 उत्तरी कर्नाटक के सात जिलों से थे. 2005 में राष्ट्रीय नमूना सर्वेक्षण में इस क्षेत्र के दो जिलों, बीदर और कालाबुरगी (पहले गुलबर्गा) की पहचान सबसे गरीब जिलों के रूप में हुई है.

After a thorough study, DM Nanjudappa Committee listed 39 Talukas in the list of the "most backward" in 2003, out of which 26 were from seven districts of Northern Karnataka. In 2005, in the National Sample Survey, two districts of this region, Bidar and Calaburgi (formerly Gulbarga) have been identified as the poorest districts.

हालाँकि संविधान में संशोधन जिसने अनुच्छेद 371 (जे) के तहत हैदराबाद कर्नाटक क्षेत्र को विशेष दर्जा दिया गया है.

However, the amendment to the Constitution, which has been given special status to the Hyderabad region under Article 371 (J).

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0