The Khangchendzonga Biosphere Reserve

Ecuador crisis
April 24, 2019
Ethanol production
April 24, 2019

The Khangchendzonga Biosphere Reserve

सिक्किम में कन्चनजन्गा बायोस्फियर रिजर्व को यूनेस्को द्वारा नामित विश्व नेटवर्क ऑफ बायोस्फीयर रिज़र्व (डब्ल्यूएनबीआर) में शामिल होने वाला भारत का यह 11वां बायोस्फीयर रिजर्व बना है.

It is the 11th Biosphoenic Reserve of India to join the World Network of Biosphere Reserve (WNBR) named by the UNESCO to the Khangchendzonga Biosphere Reserve in Sikkim.

कन्चनजन्गा बायोस्फियर रिजर्व दुनिया के सबसे ऊंचे पारिस्थितिक तंत्रों में से एक है, इसका दक्षिणी और केंद्रीय परिदृश्य जो 86% कोर एरिया बनाता है वह ग्रेटर हिमालय में स्थित है. उत्तरी भाग के 14% क्षेत्र में ट्रांस-हिमालयन जैसी विशेषता पाई जाती है.

The Khangchendzonga Biosphere Reserve is one of the world's highest ecosystems, its southern and central landscape, which constitutes 86% of the core area, is located in the Greater Himalayas. In 14% of the northern part, there is a specialty like trans-himalayan.

कन्चनजन्गा नेशनल पार्क के कोर क्षेत्र को पहले ही 2016 में ‘मिश्रित श्रेणी’ (इस श्रेणी में भारत से पहला) के रूप में विश्व विरासत स्थल नामित किया जा चूका है. अकेले इस बायोस्फीयर रिजर्व के कोर ज़ोन में 150 से अधिक ग्लेशियर और 73 ग्लेशियल झीलें हैं, जिनमें से 26 किलोमीटर लंबा ज़ेमू ग्लेशियर मुख्य है.

The core area of Khangchendzonga National Park has already been named as a World Heritage Site in 2016 as 'mixed category' (first in India in this category). The core zone of this Biosphere Reserve alone has more than 150 glaciers and 73 glacial lakes, one of which is 26 kilometers long Zemu Glacier.

यह विश्व में संकटग्रस्त स्तर पर रहने वाले कई जानवर जैसे कस्तूरी मृग, हिम तेंदुए, लाल पांडा और हिमालयन ताहर जातियों सहित कई का घर है. इसकी ज़ोंगु घाटी में 118 से अधिक औषधीय पौधों की प्रजातियाँ पाई जाती हैं.

It is home to many faunae living at the endangered level in the world, including many species such as musk deer, snow leopard, Red Panda and Himalayan Tahr. More than 118 medicinal plants are found in its Zhongu Valley.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0