Pradhan Mantri Jan Aarogya Abhiyan (PMJAA)

Prevention of Corruption (Amendment) Bill, 2018
April 25, 2019
Government bans oxytocin hormone
April 28, 2019

Pradhan Mantri Jan Aarogya Abhiyan (PMJAA)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने झारखंड की राजधानी रांची में अम्ब्रेला योजना आयुष्मान भारत के तहत महत्वाकांक्षी प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (PMJAY) का शुभारंभ किया. इस योजना का उद्देश्य 5 लाख से 10.74 करोड़ लाभार्थी परिवारों यानि भारत के 50 करोड़ से अधिक लाभार्थियों को वार्षिक स्वास्थ्य बीमा कवर प्रदान करना है.

Prime Minister Narendra Modi launched the ambitious Prime Minister Jan Arogya Yojana (PMJAY) under the umbrella scheme Ayushman Bharat in Jharkhand's capital Ranchi. The objective of this scheme is to provide annual health insurance cover from 5 lakh to 10.74 crore beneficiary families i.e. more than 50 crore beneficiaries of India.

इसे दुनिया की सबसे बड़ी स्वास्थ्य सेवा योजना के रूप में जाना जाता है. यह योजना 25 सितंबर, 2018 से दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर चालू होगी.
PMJAY पूरे भारत में किसी भी सरकारी या निजी अस्पतालों में प्रति वर्ष प्रति परिवार को 5 लाख रुपये तक की मुफ्त कवरेज प्रदान करेगी.

It is known as the world's largest health care scheme. This scheme will be operational on September 25, 2018, on the anniversary of Deendayal Upadhyaya.
PMJAY will provide free coverage up to Rs 5 lakh per family per year in any government or private hospitals across India.

यह 30 राज्यों / केंद्र शासित प्रदेशों के 444 जिलों में सामाजिक आर्थिक जाति सर्वेक्षण (SECC) 2011 के आधार पर पहचाने गए लाभार्थी परिवारों को कवर करेगा. तेलंगाना, ओडिशा, केरल, पंजाब और दिल्ली (UT) ऐसे राज्य हैं जिन्होंने अभी भी इस योजना में शामिल होने के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर नहीं किए हैं.

It will cover beneficiary households identified on the basis of Social Economic Race Survey (SECC) 2011 in 444 districts of 30 States / Union Territories. Telangana, Odisha, Kerala, Punjab and Delhi (UT) are the states which have not yet signed MoU for joining this scheme.

योजना के कार्यान्वयन के लिए देश में 13000 सार्वजनिक और निजी अस्पतालों का समन्वय किया गया है. NITI Aayog इस योजना के लिए भागीदार के रूप में काम करेगा।

For the implementation of the scheme, 13,000 public and private hospitals have been coordinated in the country. NITI Aayog will work as a partner for this scheme.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0