Kaziranga National Park

District level GDP data
May 1, 2019
The microcrystal gold
May 1, 2019

Kaziranga National Park

असम में एक पूरा वन प्रभाग 160 किमी उत्तर-पूर्व में लॉन्ग मार्च करेगा जिसका कारण है - काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान (केएनपी) का एक सींग वाला राइनो।

A full forest division in Assam will make a long march in 160 km northeast, the reason being- One horn rhino of Kaziranga National Park (KNP).

14 अगस्त को, असम के पर्यावरण और वन विभाग ने एक अधिसूचना जारी करते हुए कहा कि KNP को मौजूदा पूर्वी असम वन्यजीव और नया बिस्वनाथ वन्यजीव - "गहन वन्यजीव प्रबंधन" के लिए दो प्रभागों में विभाजित किया गया था.

On 14th August, the Environment and Forest Department of Assam issued a notification saying that KNP was divided into two divisions for the existing Eastern Assam Wildlife and New Biswanath Wildlife - "Intensive Wildlife Management".

केएनपी यूनेस्को द्वारा 1985 में विश्व विरासत स्थल घोषित हुआ. 2015 में शिकारियों ने 74 गैंडे को मार गिराया. इनमें से कई गैंडे केएनपी से थे, हालांकि 2017 के बाद से अवैध शिकार के कम मामले सामने आए हैं.

KNP was declared a World Heritage Site by UNESCO in 1985. In 2015, poachers killed 74 rhinos. Many of these rhinoceros were from the KNP, although less number of poaching has been reported since 2017.

मार्च 2018 में राइनो जनगणना के अनुसार, केएनपी में अनुमानित 2,413 गैंडे हैं. इस पार्क में दुनिया की 57% जंगली जल भैंस आबादी भी है, एशियाई हाथियों का सबसे बड़ा समूह है और प्रति 100 वर्ग किमी में 21 रॉयल बंगाल टाइगर और सबसे अधिक धारीदार बिल्ली की जनसँख्या है.

According to Rhino Census in March 2018, there are estimated 2,413 rhinos in KNP. There are also 57% of the world's wild water buffalo population in this park, the largest group of Asian elephants and 21 Royal Bengal Tiger and 100% of the most striped cat population in every 100 square km.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0