Five special tourism zones

Gaganyaan mission
April 28, 2019
Laser Interferometer Gravitational-Wave Observatory (LIGO) project
April 28, 2019

केंद्रीय बजट 2017-18 में घोषणा की है कि सरकार राज्यों के साथ साझेदारी में पांच विशेष पर्यटन क्षेत्र स्थापित करेगी. इस बजट में, सरकार ने पर्यटन मंत्रालय को 1,840.77 करोड़ रु दिए जो वित्तीय वर्ष 2017-18 की तुलना में 250 करोड़ अधिक है. अंतरराष्ट्रीय यात्रा बाजार में भारत की छवि को बढ़ावा देने के लिए अतुल्य भारत 2.0 अभियान का दुनिया भर में अनावरण किया गया.

In the Union Budget 2017-18, it has been announced that the Government will establish five special tourism zones in partnership with states. In this budget, the government has given the tourism ministry Rs 1,840.77 crore.

 

स्वदेश दर्शन योजना के तहत 13 विषयगत सर्किटों उत्तर-पूर्व भारत सर्किट, बौद्ध सर्किट, हिमालयन सर्किट, तटीय सर्किट, कृष्णा सर्किट, डेजर्ट सर्किट, ट्राइबल सर्किट, इको सर्किट, वन्यजीव सर्किट, ग्रामीण सर्किट, आध्यात्मिक सर्किट, रामायण सर्किट और विरासत सर्किट की विकास के लिए चिन्हित किया गया है.

Incredible India 2.0 campaign was unveiled around the world to promote India's image in the international travel market.

 

तीर्थयात्रा कायाकल्प और आध्यात्मिक संवर्धन ड्राइव (PRASAD) योजना के अंतर्गत 13 शहरों अजमेर, अमृतसर, अमरावती, द्वारका, गया, कामाख्या, कांचीपुरम, केदारनाथ, मथुरा, पटना, पुरी, वाराणसी और वेलंकन्नी को विकास के लिए चिन्हित किया गया है.

Under the Swadesh Darshan scheme, 13 thematic circuits include the North-East India Circuit, Buddhist Circuit, Himalayan Circuit, Coastal Circuit, Krishna Circuit, Desert Circuit, Tribal Circuit, Eco Circuit, Wildlife Circuit, Rural Circuit, Spiritual Circuit, Ramayan Circuit, and Heritage Circuit Has been marked for development.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0