Accurate projections of the population could make higher GDP

National Mission for Clean Ganga (NMCG)
April 15, 2019
Higher Education Commission of India
Higher Education Commission of India (HECI) Bill
April 15, 2019
The population could make higher GDP

The population could make higher GDP

शोधकर्ताओं का सुझाव है कि सटीक जनसंख्या अनुमान भारत और इसके कार्यबल को अधिक विकसित एशियाई देश (प्रति व्यक्ति उच्च जीडीपी) के बराबर तक पहुचने में मदद कर सकता है. इसके लिए लोगों के बीच शिक्षा के स्तर में विविधता और अंतर के लिए लेखांकन के प्रयोग से अधिक सटीक अनुमानों तक पहुंचन होगा.

Researchers suggest that accurate population estimates can help India and its workforce reach an equal proportion of the more developed Asian country (the higher GDP per capita). For this, for the diversity and difference in the level of education among the people, the use of accounting will reach more accurate estimates.

ऑस्ट्रिया स्थित इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट फॉर एप्लाइड सिस्टम एनालिसिस के विश्व जनसंख्या कार्यक्रम निदेशक वोल्फगैंग लुत्ज ने कहा कि “भारत एक अत्यंत विषम उप-महाद्वीप है. यह समग्र यूरोप के विपरीत केवल एक राष्ट्र है,, इसे एक समान इकाई के रूप में नहीं माना जाना चाहिए,”.

Wolfgang Lutz, director of the World Population Program of the International Institute for Applied System Analysis, based in Austria, said that "India is a very heterogeneous sub-continent. This is a nation, unlike overall Europe, it should not be considered as a uniform entity. "

अनुमान हैं कि - 2025 तक, भारत में उच्च प्रजनन दर और एक युवा जनसँख्या के कारण दुनिया के सबसे अधिक आबादी वाले देश के रूप में चीन से आगे निकल जाएगा।

It is estimated that by 2025, due to high reproduction rates and a young population in India, it will overtake China as the world's most populous country.

शोधकर्ताओं ने भारत के विभिन्न क्षेत्रों की विविधता और जनसंख्या के अध्ययन के लिए पांच आयामी मॉडल पर कार्य किया, जिसमें ग्रामीण या शहरी निवास स्थान, राज्य, आयु, लिंग और शिक्षा के स्तर शामिल थे.

Researchers worked on a five-dimensional model to study the diversity and population of different regions of India, which included levels of rural or urban habitat, state, age, gender, and education.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

0